विश्व गुरु बसवेश्रर के जीवन में आनेवाले महत्व की घटनाएँ अंग्रेजी इ. में


१. जन्म 1134 आनंदनाम संवत्सर वैशाख मास के तीसरे दिन, रोहिणी नक्षत्र माता मादालांबिका, पिता-मादरस ।

२. यज्ञोंपवीत का निराकरण, घर से निर्गमन - 1 1 4 2

३. 21वीं उम्र में मंगलवेढे के लिए कूडलसंगम से निर्गमन श्रीमुख संवत्सर में 1153

४. मंगलवेढे से कल्याण को प्रयाण- 1160

५. अनुभव मंडप की स्थापना - 1169

६. चन्नबसवण्णा का जन्म - 1172

७. अल्लमप्रभु - सिद्धराम का आगमन - 1185

८. प्रभुदेव का पीठारोहण - 1185

९. प्रभुदेव से चन्नबसवण्णा को अधिकार का हस्तांतर - 1195

१०. बसवेश्वर कल्याण से निर्वासित होकर कल्याण से निकलना फाल्गुण द्वादशि 1196

११. शरणों को पेट के बल खींचवाना फाल्गुण चतुर्दशी 1196

१२. बिज्जल का वध, पूनम के दिन - 1196

१३. साहित्य के साथ शरणों का निर्गमन पूनम् के अगले दिन - 1196

१४. कूदृलसंगम में लिंगैक्य, श्रावण सुद्ध पंचमि - 1196

१५. चन्नबसवण्णा का, 12000 शरण समूह के साथ उळवि पहुंचना- नलनाम संवत्सर वैशाख बहुल बिदिगे बुधवार - 1196

१६. चन्नबसवण्णा का लिंगैक्य- कार्तीक मास, पूनम् के दिन - 1196

*
सूची पर वापस(index)
Previousबसवण्णा ( बसवेश्वर) कौन है ?महात्मा बसवेश्वर (1134-1196)Next
Guru Basava Vachana

Akkamahadevi Vachana

[1] From the book "Vachana", pub: Basava Samiti Bangalore 2012.